चातक

आओ खोजें हिंदुस्तान

123 Posts

4032 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 1755 postid : 769091

सी-सैट: थोड़ी हकीकत, थोड़ा फ़साना

  • SocialTwist Tell-a-Friend


पिछले कई दिनों से सरकार, आयोग और देश के तथाकथित कर्णधारों से बीच सी-सैट प्रणाली में भाषा को लेकर पकड़म-पकड़ाई का उम्दा खेल देखने को मिल रहा है| ऐसा नहीं है कि सी-सैट का प्रारूप दोष-रहित है; भारत की सरकारी परंपरा को पूरी तरह निभाते हुए इस प्रणाली में भी जानबूझकर पर्याप्त मात्रा में कमियाँ शामिल की गई हैं परन्तु अभी हम केवल उस कमी/पक्षपात पर दृष्टिपात करते हैं जिसपर मीडिया, अभ्यर्थी और स्वदेशी (हिंदी आदि) भाषाओं के हिमायती आंदोलित(?) हो उठे हैं|
मीडिया और आन्दोलनकारी छात्र हिंदीभाषी अभ्यर्थियों की दुर्गति का आंकड़ा प्रस्तुत करते हुए, सी-सैट में शामिल अंग्रेजी भाषा वाले हिस्से की दुरूहता का रोना रोते हुए जिस प्रकार निज-भाषा गौरव का हथियार चला रहे हैं वह कुल समस्या का महज़ दसवें हिस्से के उपचार जैसा ही है| आइये इन असफल अथवा असफलता से भयभीत अभ्यर्थियों की मांग और कारण पर थोड़ा गंभीरता से विचार करें-
यदि आन्दोलनकारियों की बात मान ली जाए तो परीक्षा का परिणाम हिंदी आदि स्वदेशी भाषियों के हित में आने वाला नहीं है लेकिन यह उच्च-स्तरीय प्रतियोगी परीक्षाओं की गुणवत्ता के विरुद्ध जरूर आयेगा| ऐसा मैं ना तो हिंदी विरोध की मानसिकता के कारण कह रहा हूँ और न ही अंग्रेजी समर्थन की मानसिकता के कारण| यहाँ पर मेरी राय का स्रोत भाषाई पक्षपात नहीं है अपितु उस माध्यमिक और उच्च शिक्षा की गुणवत्ता और छात्रों की क्षमता से है जिसे लेकर ये आन्दोलनकारी आज मैदान में हैं| इनमे से अधिकतम आन्दोलनकारी छात्र उन राज्यों से आते हैं जिनमे पिछले दस वर्षों में माध्यमिक और उच्च शिक्षा के साथ जबरदस्त राजनीतिक दुष्कर्म हुए हैं| उत्तर-प्रदेश, मध्य-प्रदेश और बिहार संयुक्त रूप से इस खेल में प्रथम पायदान पर शोभायमान हैं और ये आन्दोलनकारी छात्र इसी दुष्कर्म का नतीजा हैं, दूर से देखने पर प्रतियोगी छात्रों की लगने वाली ये भीड़ वास्तव में राज्यों द्वारा शिक्षा के साथ मनमानी करके उत्पन्न की गई एक लाचार और अक्षम भीड़ है जिसे प्रतियोगी परीक्षाओं में तब तक सफलता नहीं मिलने वाली है जबतक कि ये प्रतियोगी परीक्षाएं उन्हीं अनैतिक संसाधनों से युक्त न की जाएँ जिन संसाधनों की सहायता से ये अपने प्रदेशों में माध्यमिक और उच्च-शिक्षा की परीक्षाओं में उत्कृष्ट अंको वाली डिग्रियाँ लेकर आये हैं|
अब जरा नजर घुमाते हैं सी-सैट के भाषाई दोष की ओर- हमें निःसंदेह ऐसे नौकरशाह और कर्मचारियों की आवश्यकता है जिन्हें अंग्रेजी भाषा की अच्छी समझ हो इसलिए परीक्षा प्रारूप में भाषा वाले हिस्से के दो भाग होने चाहिए एक अंग्रेजी तो दूसरा स्वदेशी (हिंदी आदि) और दोनों ही भाग अनिवार्य रूप से सभी अभ्यर्थियों द्वारा हल किये जाएँ इससे न तो स्वदेशी भाषाओं के साथ अन्याय की संभावना होगी और न ही परीक्षा की गुणवत्ता प्रभावित होगी| सी-सैट की कमियाँ सिर्फ इसी इलाज से दूर नहीं हो सकती परन्तु फिलहाल मुद्दा बन चुकी एक कमी हमेशा के लिए दूर जरूर हो सकती है|
इस परिवर्तन को स्वीकार करना एक अच्छा कदम हो सकता है लेकिन मुझे पूरा विश्वास है कि यह परिवर्तन आन्दोलनकारी छात्रों के लिए कोई सुखद परिणाम लाने वाला नहीं है, क्योंकि उनकी असली ताकत तो पिछले दस वर्षों में राज्य सरकारों द्वारा दूषित माध्यमिक और उच्च शिक्षा चूस चुकी है| बचपन में ही पोलियो का शिकार हुए बच्चे अपना जीवन तो किसी तरह जी लेते हैं लेकिन वे मैराथन के विजेता धावक नहीं हो सकते हलाकि इसमें दोष बच्चे का नहीं बल्कि उस व्यवस्था का है जिसने उन्हें जानबूझकर अपाहिज किया है|

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (7 votes, average: 4.86 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

yogi sarswat के द्वारा
August 5, 2014

अब कुछ बदलाव तो किया है सरकार ने , देखते हैं क्या परिणाम निकलता है !

    chaatak के द्वारा
    August 10, 2014

    जी अभी तो इंतज़ार करते हैं :)

एल.एस. बिष्ट् के द्वारा
August 4, 2014

चातक जी, सी-सैट पर पहली बार एक संतुलित टिप्पणी पढने को मिली । अन्यथा हिंदी के मोह मे इस सबंध मे एक्तरफा सोच दिखाई दे रही है । हिंदी बेल्ट के शिक्षा स्तर पर बहुत ही सटीक लिखा है । बचपन में ही पोलियो का शिकार हुए बच्चे अपना जीवन तो किसी तरह जी लेते हैं लेकिन वे मैराथन के विजेता धावक नहीं हो सकते हलाकि इसमें दोष बच्चे का नहीं बल्कि उस व्यवस्था का है जिसने उन्हें जानबूझकर अपाहिज किया है|

    chaatak के द्वारा
    August 10, 2014

    स्नेही बिष्ट जी, ब्लॉग पर आपकी राय जानकर बहुत ख़ुशी हुई, मैं किसी भी भाषा को अच्छे या बुरे, अपने या पराये कि दृष्टि से देख नही पाता क्योंकि मुझे सारी भाषाएँ अच्छी लगती हैं सी-सैट का मामला वास्तव में भाषा का युद्ध नही बनना चाहिए, विसंगतियां जहाँ हैं वहां पर न्यायोचित त्रुटी-सुधार जरूर अपनाना चाहिए| प्रतिक्रिया का हार्दिक धन्यवाद!


topic of the week



latest from jagran